भगवान की पूजा कैसे करे सही तरीका

भगवान की पूजा कैसे करे: हेल्लो दोस्तों कैसे हैं आप लोग? आशा करते हैं अच्छे होंगे और आपकी लाइफ भी मजे से चल रही होगी। आज का हमारा पोस्ट बहुत ही खास होने वाला है क्योंकि आज के पोस्ट में हम जैसे विषय पर बात करने वाले हैं वह हर किसी के लिए जरूरी है।

हिंदू धर्म में लोगों का पहला कर्तव्य है भगवान का पूजा करना। स्नानादि से निवृत्त होकर भगवान का नाम लेना हिंदू धर्म में बहुत जरूरी होता है। लेकिन पूजा करने से सिर्फ नहीं होता सही तरीके से और सही विधि विधान के साथ करना जरूरी है तभी हमें पूजा का फल प्राप्त होता है नहीं तो पुण्य के बदले पाप चढ़ जाता हैै।

आज की पोस्ट में हम इसी विषय पर बात करने वाले हैं। आज के लेख में हम आपको बताएंगे कि भगवान की पूजा कैसे करनी चाहिए। कौन सी खास बातें हैं जिनका ध्यान रखना चाहिए हमें पूजा करते वक्त। तो चलिए बिना समय गवाएं आर्टिकल को शुरू करते हैं और जानते हैं कुछ खास और अनोखे नियम के बारे में, जो हिंदू धर्म के लोगों के लिए जानना बहुत जरूरी है।

अगर आप इन नियमों को मानते हुए सही विधि-विधान अनुसार भगवान की पूजा करेंगे तो भगवान की कृपा दृष्टि सदा आप पर बनी रहेगी। तो चलिए शुरू किया जाए।

भगवान की पूजा कैसे करे

भगवान की पूजा करने का सही तरीका

Bhagwan ki pooja kaise kare

1. गंदे वस्त्र पहन कर कभी भी पूजा ना करें

वैसे तो यह सबको पता है लेकिन कुछ लोग नहाने के बाद वही वस्त्र पहन लेते हैं जो पिछले दिन पहना था। भले ही 2 घंटे के लिए ही पहना गया हो लेकिन एक बार किसी कपड़े को बदन से उतारने के बाद फिर से उसको पहनकर पूजा करना बिल्कुल गलत है।

भगवान की पूजा तभी सफल मानी जाती है जब हम नए और धुले हुए वस्त्र पहनकर पूजा करें। नए वस्त्र से हमारा मतलब यह नहीं है कि वस्त्र बाजार से खरीदा गया नया कपड़ा हो। बल्कि कपड़ा साफ सुथरा होना चाहिए। हर रोज नहाने के बाद हमें वही कपड़े पहनने चाहिए धो कर रखे गए हो।

2. हर रोज शाम को संध्या पूजा बहुत जरूरी है

संध्या पूजा के महत्व के बारे में हर कोई नहीं जानता। लेकिन हर रोज संध्या पूजा करना उतना ही जरूरी होता है जितना की सुबह की पूजा। संध्या पूजा के समय घर में और आंगन में दीप जरूर जलाना चाहिए।

आंगन में तुलसी का पौधा हर हिंदू के घर में होता है। तुलसी के नीचे हर रोज जो लोग शाम को दीप जलाकर संध्या पूजा करते हैं उनके घर में हमेशा समृद्धि और बरकत बनी रहती है।

इसीलिए संध्या पूजा करना कभी भी ना भूले। संध्या पूजा से पहले स्नान करना जरूरी नहीं है। लेकिन क्योंकि दिन भर हम हर तरह के काम करते हैं, खाना पीना करते हैं इसीलिए पहले उसको बदलकर नए साफ वस्त्र पहनना चाहिए तब संध्या पूजा करना चाहिए। आप लोग चाहे तो संध्या पूजा के लिए अलग से एक साफ वस्त्र रख सकते हैं। रोज शाम को उस कपड़े को पहनकर संध्या पूजा कर सकते हैं।

3. शाम को दीप और धूप जरूर जलाए

सुबह की पूजा में अगरबत्ती जला सकते हैं लेकिन शाम की पूजा में धूप जरूर दिखाए। शाम को धूप से पूजा करने से ना सिर्फ भगवान प्रसन्न रहते हैं बल्कि पूरे घर का वातावरण स्वच्छ और पवित्र हुई हो जाता है। इसके अलावा धूप के धुएं से गंदे कीटपतंग भी घर से दूर रहते हैं। इसीलिए हर शाम घर में धूप जरूर दिखाएं। उसी तरह हर शाम घर और आंगन में दीप भी जरूर जलाए।

4. गौ माता की पूजा जरूर करें

गौ माता की पूजा बहुत लाभकारी होता है। मूर्ति के सामने तो हर कोई पूजा करता है लेकिन हिंदू धर्म में माना गया है कि पूरे 36 करोड़ देवी देवता का वास एक गाय के शरीर में होता है।

गाय की पूजा और सेवा हमेशा करनी चाहिए। कुछ लोग भगवान की पूजा तो अच्छे से करते हैं लेकिन गाय का अनादर करते हैं। ऐसा करने से भगवान हम पर नाराज हो जाते हैं और पुण्य हमें प्राप्त नहीं होता।

इसीलिए पूजा के साथ गौ माता की सेवा भी जरूरी है। गाय को चारा खिलाये और मौका मिले तो गाय की अच्छी तरह से सेवा करें। हफ्ते में कम से कम शनिवार के दिन गौ माता की सेवा अवश्य करें।

5. हर रोज पूजा करें

कुछ लोग पूजा पाठ के महत्व को नहीं समझते और कभी-कभार जब टाइम मिले पूजा कर लेते हैं। लेकिन भगवान का नाम हर रोज लेना जरूरी है। घर का मंदिर कभी भी बासी नहीं छोड़ना चाहिए।

घर का कोई भी एक सदस्य रोज सुबह उठकर मंदिर को धो पोंछकर भगवान को भोग अवश्य लगाना चाहिए और बाकी सब लोग नहा कर अगर पूजा नहीं भी करे सिर्फ दिल से भगवान को याद कर ले तो काफी है। लेकिन मंदिर को कभी भी बासी ना छोरे और हर रोज कोई ना कोई भगवान की पूजा जरूर करें।

6. कभी भी दिए से दिए को प्रज्वलित ना करें

अक्सर लोग एक दिया जलाकर उस दिए से बाकी दियो को प्रज्वलित कर लेते हैं। लेकिन दिए से दिए को कभी भी प्रज्वलित नहीं करना चाहिए। क्योंकि ऐसा करने से दरिद्रता घर में आता है।

दिया ही नहीं बल्कि अगरबत्ती बगेरा भी दिए से प्रज्वलित नहीं करना चाहिए। दियो को हमेशा अलग-अलग जलाना चाहिए। कभी भी एक दिए से दूसरे को चलाना उचित नहीं होता।

7. सूर्य भगवान को जल चढ़ाना बहुत लाभकारी होता है

सुबह पूजन करते समय सूर्य भगवान को जल और फूल जरूर अर्पित करें। लाल फूल के साथ दूध और जल भगवान सूर्य को चढ़ाए। ऐसा करने से रोग दूर होता है और व्यक्ति में आत्मविश्वास की वृद्धि होती है।

जो व्यक्ति हर रोज सूर्य भगवान को जल देता है। आदित्य की कृपा सदैव उस व्यक्ति पर बनी रहती है और वह हमेशा सुखी और निरोगी जीवन व्यतीत करता है।

8. अमृत जरूर चढ़ाएं

पूजन करते समय भगवान को चरणामृत जरूर चढ़ाना है। आपके पास जो भी सामग्री मौजूद है उससे भगवान जी के लिए अमृत बनाए और अगर ज्यादा कुछ नहीं है तो कच्चा दूध और मिश्री को मिक्स करके ही चढ़ा दें।

लेकिन पीतल के गिलास में भगवान के लिए चरणामृत चढ़ाना जरूरी है। इससे भगवान आप पर प्रसन्न होंगे और उनकी कृपा आप पर हमेशा बनी रहेगी।

9. हर धर्म की इज्जत करें

देखा जाता है कि लोग अपने धर्म की काफी इज्जत करते हैं लेकिन दूसरे धर्म के लिए मन में सम्मान नहीं रखते। लेकिन लोगो को यह समझना चाहिए कि हर धर्म की अपनी अपनी खासियत, अपनी अपनी मर्यादाएं होती है और एक धर्म में रहकर किसी दूसरे धर्म का अपमान करना सही नहीं है।

हर धर्म के लोगो को यह बात समझनी चाहिए कि मंदिर में प्रसाद चढ़ा देने से पूजा नहीं हो जाती। पूजा तो दिल से होती है और अगर हम अपने भगवान की हजार बार भी पूजा पाठ करें और दूसरे धर्म के लिए मन में क्रोध रखें, ईर्ष्या रखे तो भगवान हम पर कभी प्रसन्न नहीं होते।

हमारा मालिक एक ही होता है चाहे वह हिंदू धर्म का भगवान या मुसलमान में अल्लाह हो या फिर ईसाई में यीशु हो। हर धर्म का सम्मान और हर धर्म की रक्षा करना ही पूजा है।

10. विशेष व्रत तिथि का ख्याल रखें

जन्माष्टमी तिथि, शिवरात्रि तिथि इत्यादि तिथियों को माने। हम यह नहीं कह रहे हैं कि हर तिथि पर आप उपवास ही रखें, बल्कि हम तो यह कहना चाहते हैं कि भले ही उपवास ना रखें लेकिन हर त्योहार पर नियम अनुसार पूजा अवश्य करें। भगवान की कृपा दृष्टि सदा आप पर बनी रहेगी और व्रत वाले दिन पूजा करके शाकाहारी भोजन का ही करें।

11. बिना स्नान किए तुलसी के पत्ते न तोड़े

बिना नहाए कभी भी तुलसी के पत्ते न तोड़े। नहीं तो बहुत ही भयंकर परिणाम हो सकते हैं।

निष्कर्ष:

तो दोस्तों ये था भगवान की पूजा कैसे करे, आशा करते हैं यह लेख आपको पसंद आया होगा और आपलो भगवन की पूजा करने का सही तरीका भी पता चल गया होगा. अब से आप भी भगवान को संतुष्ट करने में कोई कसर नही छोड़ेंगे। अब आप सभी से अनुरोध है की इस पोस्ट को अपने दोस्तो के साथ ज्यादा से ज्यादा शेयर जरूर करें।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *